Showing posts with label धौलपुर. Show all posts
Showing posts with label धौलपुर. Show all posts

Friday, February 5, 2010

DHOLPUR NG TRIP

धौलपुर से तांतपुर और सरमथुरा नेरोगेज रेलयात्रा


छोटा था इसलिए आगरा बाहर अकेले जाने में डर सा लगता था किन्तु किस्मत ने को हमेशा साथ देने वाला दोस्त नहीं दिया था तो हिम्मत करके अकेला ही अब यात्रायें करने लगा था। पहली यात्रा धौलपुर से सरमथुरा जाने वाली रेलवे लाइन पर की, जब धौलपुर पहुँचा तो पता चला ट्रेन निकल चुकी है। इस रूट पर यात्रा करने वाली ये अकेली ही ट्रेन है जो सुबह चार बजे धौलपुर से सरमथुरा जाती है और सुबह दस बजे वापस आती है। अब यह सरमथुरा से वापस लौट रही है और कुछदेर बाद इंजन बदलकर ये फिर से तांतपुर जायेगी जो आगरा उत्तरप्रदेश में एकमात्र नेरोगेज का रेलवे स्टेशन है और तांतपुर से बाड़ी आकर फिर से वापस सरमथुरा जायेगी और रात को वापस धौलपुर आकर विश्राम करेगी और फिर अगले दिन सुबह चार बजे अपनी यात्रा प्रारम्भ करेगी। मैं इस ट्रैन से यात्रा करने के लिए धौलपुर से बाड़ी तक बस से गया और बाड़ी स्टेशन पहुँचा।  

जब ट्रैन स्टेशन पर पहुंची तो सभी लोगों ने अपना स्थान ग्रहण किया, अधिकतर लोग इसकी छत पर बैठकर यात्रा पसंद करते हैं। मैंने देखा कि कोच के अंदर हालांकि सीटें खाली पड़ी हैं किन्तु वह सीटें यहाँ औरतों और  बच्चों के काम आती हैं। यहाँ के मर्द छत पर बैठकर यात्रा करने में ही अपनी शान समझते हैं। कुछ लोग छत पर बैठकर बीड़ी सुलगा रहे हैं कुछ गिरोह बनाकर ताश खेल रहे हैं। ट्रेन स्टेशन से प्रस्थान कर चुकी है मैं ट्रेन के अंदर हूँ और अगले स्टेशन पर उतरकर मैं भी छत पर जा चढ़ा। ट्रेन की छत पर भी चने वाला पूरी ट्रेन की छत पर घूम घूम कर अपने चने बेच रहा है और लोग आनंदित होकर चने खाते हुए यात्रा कर रहे हैं। 

इस रेलमार्ग पर बाड़ी यहाँ का मुख्य स्टेशन से है जहाँ इस ट्रेन का ठहराव काफी समय तक है। बाड़ी एक बड़ा कस्बा है और धौलपुर के बाद एक मुख्य बाजार भी। काफी देर यहाँ रुकने बाद और इंजन के आगे से पीछे लगने के बाद यह ट्रेन अपने अगले स्टेशन मोहारी पहुँचती है। यह एक जंक्शन स्टेशन है जहाँ से एक लाइन सरमथुरा जाती है और दूसरी तांतपुर।  फ़िलहाल हम सरमथुरा की तरफ चल रहे हैं। तांतपुर से पहले बड़ा स्टेशन बसेड़ी है जो उत्तरप्रदेश की सीमा से सटा हुआ है और इसके बाद यह ट्रेन भी उत्तर प्रदेश में प्रवेश करती है जहाँ तांतपुर इसका आखिरी पड़ाव है। यहाँ से अब ये तांतपुर - बाड़ी पैसेंजर बनकर बाड़ी तक जाती है और आपको गर इसी ट्रेन से धौलपुर जाना है तो उतरिये मत इसीमे बैठे रहिये पर हाँ बाड़ी पहुंचकर सरमथुरा के लिए टिकट अवश्य ले लीजिये क्योंकि यह ट्रेन वापस अपनी दिशा में अपनी दूसरी लाइन जो मोहारी से अलग होकर सरमथुरा जाती है ( जिस पर अभी मैं यात्रा कर रहा हूँ ) उसी पर जायेगी और अपने अंतिम स्टेशन से सरमथुरा वापस चलकर शाम को सात बजे धौलपुर पहुंचेगी।  जहां से आप ताज एक्सप्रेस से आगरा या दिल्ली वापस आकर अपनी यात्रा को समाप्त कर सकते हैं।

मोहारी से निकलने के बाद रनपुर और आंगई स्टेशन पर रुकते हुए यह बरौली को बिना रुके एक सुपरफास्ट एक्सप्रेस की तरह पार करती है और इसके बाद इसी तरह कांकरेट पर बिना रुके सीधे सरमथुरा पहुँचती है। और यहाँ से इंजन दूसरी दिशा में लगाकर इसे वापस धौलपुर के लिए रवाना कर दिया जाता है। 

इस रेल मार्ग के मुख्य  स्टेशन 


  • धौलपुर जंक्शन 
  • नूरपुरा 
  • गढ़ी सांद्रा 
  • सुरौठी 
  • बारी 
  • मोहारी जंक्शन 
  • बसेरी               
  • बागथर 
  • तांतपुर    
  • मोहारी जंक्शन 
  • रनपुरा 
  • आंगई 
  • बरौली ( अब सेवा में नहीं है )
  • कांक्रेट ( अब सेवा में नहीं है )
  • सिरमथुरा 
ट्रेन  का समय 
  • 52179 धौलपुर - सिरमथुरा पैसेंजर  4 :00 - 7 :00 
  • 52181 धौलपुर - तांतपुर पैसेंजर      10:40 - 13 :05 
  • 52183 बारी  - सिरमथुरा पैसेंजर      14 :45 - 16 :25 

मैंने इसमें तीसरी वाली ट्रेन से यात्रा की थी। उसी से मैं वापस धौलपुर भी पहुंचा। तांतपुर स्टेशन के फोटो मैंने अपनी बाइक यात्रा से लिए थे। 

धौलपुर रेलवे स्टेशन 

धौलपुर रेलवे स्टेशन 

धौलपुर से बाड़ी नेरो गेज रेलवे लाइन 

* सुरौठी रेलवे स्टेशन 

बारी या बाड़ी रेलवे स्टेशन 

ट्रेन आने वाली है, बाड़ी 

तांतपुर से आई ट्रेन 

* बाड़ी में एक समय यह रेलवे लाइन 

मोहारी जंक्शन 

मोहारी जंक्शन 

मोहारी जंक्शन 
* बागथर रेलवे स्टेशन 

तांतपुर रेलवे स्टेशन 

तांतपुर रेलवे स्टेशन और मेरी बाइक 



 बरौली रेलवे स्टेशन, यहाँ ट्रेन का ठहराव अब नहीं है 

 बरौली रेलवे स्टेशन, यहाँ ट्रेन का ठहराव अब नहीं है 

 कांकरेट रेलवे स्टेशन, यहाँ ट्रेन का ठहराव अब नहीं है 

सरमथुरा रेलवे स्टेशन, इसे रेलवे की भाषा में सिरमथुरा कहते हैं।  
 * उपरोक्त फोटो विषय की उपयोगिता हेतु गूगल से लिए गए हैं। जिनके हैं उनका सह्रदय आभार।