BAIJNATH TEMPLE AND BINBA RIVER

बैजनाथ धाम और बिनबा नदी



यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

      पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैं काँगड़ा से बैजनाथ पपरोला तक चलने वाली एकमात्र एक्सप्रेस ट्रेन से बैजनाथ पपरोला स्टेशन पहुँच गया। अब यह ट्रेन शाम को यहाँ से 4:30 बजे पठानकोट के लिए प्रस्थान करेगी इसलिए अभी बैजनाथ में घूमने के लिए मेरे पास पर्याप्त समय था। मैं पहले भी यहाँ 2 या 3 बार आ चुका हूँ और जब आज से 6 साल पहले जब मैं यहाँ आया था तब पिताजी के साथ यहाँ बहने वाली बिनवा नदी में स्नान भी करने गया था। इसलिए आज सबसे मेरा लक्ष्य था इस नदी स्नान करना। बैजनाथ से आगे रेलवे लाइन जोगिन्दर नगर तक जाती है और एक शानदार घुमाव साथ बिनवा नदी को पार करती है।


     मैं इसी रेलवे लाइन के साथ साथ बिनवा नदी तक पहुँचा और अपने वस्त्र उतार कर बिनवा में स्नान करने लगा परन्तु पिछली बार की अपेक्षा इस बार नदी का पानी बहुत ही ठंडा था क्योंकि इस बार पहाड़ों में बर्फ बहुत ज्यादा ही पड़ी है और बिनवा नदी एक पहाड़ी है जो उच्च हिमालयी पहाड़ों में ग्लेशियर बनाकर बहती हुई नीचे आती है इसकारण आज इसका पानी बर्फीला था। ज्यादा देर नदी में स्नान ना करके  दूसरे वस्त्र पहने और पैदल ही मंदिर के लिए रवाना हो लिया।

    इसबार मैं बैजनाथ मंदिर दूसरे गेट से पहुँचा जो मंदिर पहुँचने का मुख्य मार्ग था, यहाँ मंदिर के बाहर पूजापाठ का सामान खरीदने वाली दुकाने भी थीं। मैं मंदिर प्रांगण में पहुँचा और अपने आराध्य भोलेनाथ के दर्शनकर स्वयं को तृप्त किया।  यह मंदिर एक ऐतिहासिक कालीन मंदिर है इसका पौराणिक इतिहास मैं अपनी पिछली बैजनाथ यात्रा के दौरान बता चुका हूँ  आज मुझे इसका ऐतिहासिक महत्व जानना था, इसलिए इसबार इस मंदिर को मैंने चारों तरफ  ही गौर से देखा। हालाँकि यह पुरातत्व विभाग के अधीन है इसलिए यहाँ का संरक्षण काफी अच्छे प्रकार से किया गया है।

    कहते हैं इस मंदिर का निर्माण सन 1204 ई. में आहुका और मन्युका नामक दो व्यापारियों ने कराया था, मंदिर का निर्माण होने पूर्व भी यहाँ एक शिव मंदिर होने का पूर्ण अनुमान है यह मंदिर पांडवो द्वारा स्थापित कहलाता है। उसी मंदिर की जीर्णशीर्ण अवस्था को आहुक और मन्युका ने एक नए मंदिर का रूप दिया  भी उसी स्थिति में दर्शनों के लिए विधमान है।

      मंदिर के दर्शन कर मैं सीधे रेलवे स्टेशन पहुँचा,  शाम का समय हो चला था  और मुझे घर ( कांगड़ा मंदिर ) भी पहुँचना था क्योंकि आज मैं पहली बार इस क्षेत्र में बिना परिवार और पत्नी के आया था।  माँ के रूप में साक्षात् देवी माँ आज मेरे लौटने की प्रतीक्षा कर रही थीं। एक्सप्रेस पठानकोट जाने के लिए स्टेशन पर तैयार खड़ी हुई थी।   

बिनबा नदी और सामने पहाड़ पर बैजनाथ मंदिर 


बिनबा नदी 

बिनबा नदी 

बिनबा नदी - भयंकर ठंडा बर्फीला पानी 

बैजनाथ मंदिर के बाहर बाजार 

बैजनाथ मंदिर प्रवेश द्धार 

बैजनाथ मंदिर 


खीरगंगा नदी 

एक चेतावनी 

खीरगंगा घाट, बैजनाथ धाम 

बैजनाथ धाम 

बैजनाथ धाम 

बैजनाथ धाम

कृष्ण मंदिर, बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ के आसपास अन्य प्राचीन शिव मंदिर 

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम



बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम


बैजनाथ धाम

बैजनाथ धाम



बैजनाथ पपरोला रेलवे स्टेशन 

बैजनाथ पपरोला रेलवे स्टेशन 


बैजनाथ पपरोला रेलवे स्टेशन 


बैजनाथ पपरोला रेलवे स्टेशन 


बैजनाथ पपरोला रेलवे स्टेशन 



धन्यवाद 

 यात्रा के अन्य भाग :-






  

Comments

Popular posts from this blog

काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा

LINCHOLI

NARAYANI DHAM