Saturday, March 2, 2019

अकोला रेलवे स्टेशन पर एक सुबह

अकोला रेलवे स्टेशन पर एक सुबह
2 मार्च 2019

इस यात्रा  से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

     मैं रात को गोंदिया से 12812 हटिया - मुंबई एक्सप्रेस में बैठा और सुबह चार बजे अकोला पहुँच गया। ट्रेन से उतरा तो ठण्ड सी लगने लगी, सीधे चाय की स्टाल पर गया। चाय पीते पीते मेरी नजर एक तेंदुए पर पड़ी। एक बार को तो मुझे लगा कि असली है पर उसके आसपास लगी रेलिंग देखकर मैं समझ गया यह एक तेंदुएं का बुत है जो काटेपूर्णा सेंचुरी में पर्यटकों को स्वागत पर बुलाता है। देखने में एकदम असली लगने वाले इस बुत को मैं देखता ही रहा और जब मन भर गया तो आगे चल पड़ा। स्टेशन की दीवारों पर मेलघाट टाइगर रिज़र्व के शानदार चित्र बने हुए हैं, इन्हें देखने पर एक बार को तो यही लगता है कि हम रेलवे स्टेशन पर नहीं बल्कि मेलघाट के जंगलों में हैं।   


हटिया एक्सप्रेस अब मुंबई के लिए प्रस्थान कर चुकी है। अब मुझे इंतजार था मुर्तिजापुर जाने वाली ट्रेन का, इसलिए मैं प्लेटफॉर्म 2 पर पहुँचा। इस समय इस प्लेटफॉर्म पर विदर्भ एक्सप्रेस आ रही थी जिससे मैं नहीं गया। मुझे अकोला का रेलवे स्टेशन पूरा घूमना था, इसलिए इसके मीटरगेज के प्लेटफार्म पर गया जो अब बंद हो चुका है परन्तु मीटरगेज लाइन के अबशेष यहाँ आज भी देखे जा सकते हैं। शुरुआती समय में अकोला मीटरगेज और ब्रॉड गेज का मुख्य जंक्शन था  मीटरगेज की लाइन दिल्ली से चलकर जयपुर, अजमेर, इंदौर और खंडवा होते हुए अकोला आती थी और यहाँ से पूर्णा और शायद आगे तक जाती थी। मैं एक बार खंडवा से अकोला की मीटर गेज यात्रा करना चाहता था परन्तु जब यात्रा का समय आया तब तक ये लाइन 'गेज परिवर्तन' के लिए बंद हो गई और आज भी बंद ही है। मीटर गेज के प्लेटफॉर्म आज भी ऐसे बने है जिन्हे देखकर लगता है जैसे क्या सचमुच यहाँ मीटरगेज की कोई ट्रेन आने वाली है ? लगता ही नहीं है कि यहाँ से अब कोई ट्रेन  नहीं जाती और न ही आती।

पूरा प्लेटफॉर्म घूमने के बाद मैं 2 नंबर पर पहुँचा। अब दिन भी निकल आया था 12111 मुंबई - अमरावती एक्सप्रेस मुर्तिजापुर के लिए आने ही वाली है। जब तक मैंने सोचा कि मोबाइल में मुर्तिजापुर से अचलपुर जाने वाली नैरो गेज की ट्रेन का टाइम चेक कर लूँ, समय से चल रही है या कुछ लेट। इस ट्रेन के टाइम का कोई उल्लेख मोबाइल में नहीं था। मुझे लगा कि कहीं इस ट्रेन का संचालन रेलवे ने बंद तो नहीं कर दिया, मैंने एक दो लोगों से इस बारे में जानकारी की, परन्तु मुझे संतोषजनक जवाब नहीं मिला। अमरावती एक्सप्रेस प्लेटफॉर्म पर आ चुकी है और इसके जनरल कोच की खाली पड़ी सीट पर मैंने स्थान ग्रहण किया। 

अकोला रेलवे स्टेशन 

मेरी ट्रेन जिसने मुझे अकोला छोड़ा 

अकोला स्टेशन पर ट्रैन से उतरते ही दिखाई देने वाला एक शख्स 

ये तो एक बुत है 

मेलघाट में आपका स्वागत है 

मीटरगेज प्लेटफॉर्म - अकोला जंक्शन 

No comments:

Post a Comment