Thursday, June 28, 2018

BAZPUR



नैनीताल की तरफ 


इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

          मुरादाबाद की डोरमेट्री में बड़े बड़े मच्छरों के बीच मैं इस रात के ढलने और सुबह होने का इंतज़ार कर रहा था और इंतज़ार करते करते कब आँख लग गई पता ही नहीं चला, जब सुबह उठा तो देखा घडी में पांच बज चुके थे, जल्दी से कल्पना को उठाया और हम तैयार होकर सुबह छः बजे मुरादाबाद से निकल पड़े, मैंने काशीपुर जाने की बजाय कालाढूंगी की तरफ बाइक का रुख कर दिया। टाण्डा होते हुए हम कुछ समय बाद उत्तर प्रदेश की सीमा छोड़ चुके थे और उत्तराखंड में प्रवेश किया। यहाँ से हमें हिमालय के हरे भरे पहाड़ दिखने लगे थे। बाजपुर पहुंचकर मैंने गाड़ी में पेट्रोल डलवाया और पहलीबार मैंने PAYTM के जरिये भुगतान किया। बाजपुर उत्तराखंड में एक छोटा क़स्बा है और यहाँ सड़क के पास ही पूर्वोत्तर रेलवे का बाजपुर रेलवे स्टेशन भी है।  इसी रेलवे स्टेशन पर रूककर हमने कुछ देर आराम किया और फिर आगे की और बढ़ चले। 


      बाजपुर से निकलने के बाद जंगली रास्ता शुरू हो जाता है, सड़क के दोनों ओर बड़े बड़े पेड़ों का घना जंगल है। काफी दूर तक यह जंगल हमारे साथ रहा। अगर हम रामनगर की तरफ जाते तो जिम कार्बेट नेशनल पार्क अवश्य जाते, मेरी बड़ी तमन्ना थी कि मैं यह पार्क देखूँ, परन्तु इस बार मंजिल कल्पना ने तय की थी और मुझे उसे उसी मंजिल पर ले जाना था इसलिए हमारी गाड़ी नैनीताल की ही और दौड़ रही थी। जिम कार्बेट एक बहुत  बड़े शिकारी थे जिन्होंने इस क्षेत्र में कई बाघों को देखा था और उनके ऊपर अनेकों पुस्तकें भी लिखी हैं। हम कालाढूंगी पहुँच चुके थे, यहाँ से एक रास्ता रामनगर की तरफ भी जाता है और दूसरा नैनीताल की ओर। मुझे बाद में पता चला कि कालाढूंगी में जिम कार्बेट का घर भी था जिसे मैं नहीं देख पाया। यहाँ से अब घाटों के रास्ते शुरू हो चुके थे, और हम पहाड़ों में ऊपर की तरफ चढ़ते ही जा रहे थे। 

        कई स्थानों पर मुझे बाइक पहले और दुसरे गेयर में भी चलानी पड़ी, क्योंकि मेरी बाइक ने अब तक मैदानी रास्ता तय किया था, पहाड़ी रास्ते पर चलना उसके लिए नई बात थी और इन रास्तों पर चलने के लिए पूरी तरह से तैयार नहीं थी फिर भी मैंने बड़े हिसाब से उसके द्वारा नैनीताल की यात्रा को पूरा किया। 

BAZPUR RAILWAY STATION 

BAZPUR RAILWAY STATION

BAZPUR RAILWAY STATION 









उत्तराखंड का पहला दृश्य,   जो मैंने पहली बार कैमरे से लिया था 








No comments:

Post a Comment