Monday, June 17, 2013

KANGRA TRAVELS 2013


   काँगड़ा यात्रा - 2013 

      करीब दो साल से ज्यादा समय हो गया था इसबार बिना काँगड़ा गए हुए, इसलिए आगरा के इस बढ़ते हुए गर्म तापमान को देखकर काँगड़ा जाने का विचार मन में आया, माँ से यात्रा की आज्ञा ली और माँ भी चलने के लिए तैयार हो गईं, बस वैष्णोदेवी जाने से इनकार कर दिया, क्योंकि अब उन्हें अत्यधिक चढ़ाई की जगहों से परेशानी होने लगी थी और वैसे भी पिछले दो साल पहले काँगड़ा यात्रा के दौरान हम वैष्णोदेवी होकर आये थे,
इस बार भी कुमार मेरे साथ था, और हमेशा की तरह इसबार भी बाबा और अम्मा मेरे साथ जाने को तैयार हो गए। मैंने अपना और कल्पना का रिजर्वेशन पहले ही करवा लिए था, पापाजी पास निकलवा लाये थे सो उनका रिजर्वेशन उनके पास पर हो गया, भारतीय रेलवे के पास पर फ्री में रिजर्वेशन हो जाता है ।



     अभी हम कुल आठ सदस्य हो चुके थे जाने के लिए, मैं और कल्पना, कुमार , बाबा और अम्मा, माँ , पिताजी एवं निधि। इधर राजसमन्द से जीतू का फोन भी आ गया और वो भी हमारे साथ चलने को सहमत हो गया, उसके भी मैंने रिजर्वेशन करवा दिए, एक उसका,उसकी पत्नी और उसकी बहिन मंजू का। यात्रा की दिनांक रही सत्रह जून से चौबीस जून। यात्रा के समय का विवरण नीचे दिया गया है।

     जब यात्रा की दिनांक नजदीक आई तो जीतू ने अपना और अपनी पत्नी की यात्रा कैंसिल कर दी, कारण था उसे ड्यूटी से छुट्टी न मिल पाने का, बस मंजू का जाना तय रहा। इधर कल्पना भी अपने मायके से नहीं आई थी और इसबार वह भी इस यात्रा में मेरे साथ शामिल न हो सकी, मुझे टिकट कैंसिल करवाना बड़ा ही बुरा लगता है इसलिए जीतू की टिकट तो मुझे कैंसिल करनी पड़ी परन्तु कल्पना के स्थान पर कुमार की बुआ जाने को सहमत हो गयी और इधर बहिना ( साधना भारद्वाज ) की नन्द प्रियंका यात्रा पर जाने को तैयार हो गयी, रामेश्वरम यात्रा के दौरान बहिना हमारे घर पर रही थी और इसबार भी मेरे घर की जिम्मेदारी उसी पर थी।

      यात्रा की तारीख आ चुकी थी, ट्रेन जाने में अभी चार घंटे शेष थे कि निधि के जाने का विचार हट गया, उसके स्थान पर इस बार मेरी बड़ी बहिन रश्मि जा रही थी, रश्मि और निधि मेरी दो बहिने हैं दोनों ही मुझसे छोटी हैं और बहिना मेरे मामाजी की लड़की है जिसकी ससुराल मेरे घर से चार किमी दूर है। अब गाडी आने में एक घंटा ही बचा था कि बहिना आ गई पर प्रियंका उसके साथ नहीं थी, मतलब प्रियंका ने एन मौके पर हमे धोखा दिया और टिकट बिना कैंसिल हुए ही रह गयी, अब एक सीट हमारे साथ खाली जा रही थी, कुमार की एक छोटी बहिन भी साथ आई थी जिसका नाम ख़ुशी है, कुमार उसे दिल्ली बड़ी बुआ के यहाँ छोड़ने जा रहा था कि निजामुद्दीन स्टेशन पर उसे भी हमने अपनी यात्रा में शामिल कर लिया, अब कुल मिलकर हम दस लोग हो चुके थे। जिसे देवी माँ बुलाना चाहती हैं वही उनके दरबार में पहुँच सकता है, अन्यथा यह हर किसी के भाग्य की बात नहीं होती।

   

DATE PLACE BY
17 JUNE 2013 DELHI 12807 SAMTA EXPRESS
17 JUNE 2013 PATHANKOT 14035 DHOULADHAR EXPRESS
18 JUNE 2013 CHAMUNDAMARG 52473 PTK - BJPL PASSENGER
19 JUNE 2013 JOGINDER NAGAR 52471 PTK - JDNX PASSENGER
19 JUNE 2013 BAIJNATH TAMPLE 52474 JDNX - PTK PASSENGER
19 JUNE 2013 KANGRA TAMPLE 52470 BJPL - PTK PASSENGER
20 JUNE 2013 MCLOADGUNJ BUS
21 JUNE 2013 JWALA DEVI BUS
22 JUNE 2013 CHINTPURNI DEVI BUS
22 JUNE 2013 HOSHIYARPUR BUS
22 JUNE 2013 JALANDHAR 74919 DMU
22 JUNE 2013 AMRITSAR 18507 HIRAKUND EXPRESS
23 JUNE 2013 AGRA 18238 CHHATTISGARH EXPRESS


यात्रा का अगला भाग यहाँ पढ़िये


1 comment:

  1. Ride out of town with Kangra Travels - www.kangratravel.com

    Your safety is important to us before, during, and after every trip. Ride out of town at affordable one-way and round-trip fares with Kangra travel service. Choose from a range of AC cabs driven by top partners, available in 3 hours or book upto 7 days in advance.

    #kangraTravelsForWeb

    ReplyDelete