Showing posts with label राजस्थान. Show all posts
Showing posts with label राजस्थान. Show all posts

Saturday, November 17, 2018

ALWAR FORT



अलवर के ऐतिहासिक स्थल और बाला किला

      करीब 2 महीने पैर में चोट लगने और प्लास्टर चढ़ा रहने के कारण मैं कहीं की यात्रा करना तो दूर अपने घर से बाहर निकल भी नहीं पा रहा था, पर आज जब दो महीने बाद मुझे प्लास्टर से मुक्ति मिली तो मैं खुद को यात्रा पर जाने से नहीं रोक पाया। दीपावली निकल चुकी थी, पिछले दिनों अपनी ननिहाल आयराखेड़ा से लौटा था और आज जब शनिवार की छुट्टी हुई तो सर्दियों में सुबह की इस सुनहरी धुप में मैंने अपनी बाइक राजस्थान की तरफ दौड़ा दी। आज संग में जाने के लिए कोई भी सहयात्री मुझे अपने साथ नहीं मिला तो मैं अकेला ही रवाना हो गया।

Saturday, September 8, 2018

LOHAGARH FORT


लोहागढ़ दुर्ग की एक यात्रा

     मथुरा शहर से थोड़ी दूरी पर राजस्थान में भरतपुर शहर है जिसे लोहागढ़ के नाम से भी जाना जाता है, इसका प्रमुख कारण है यहाँ स्थित मजबूत दीवारों वाला किला जो हमेशा ही अजेय रहा। दुश्मनों के दांत खट्टे करने वाला और हमेशा ही उनकी पहुँच दूर रहने के कारण ही इसे अजेय कहा जाता है। भरतपुर रियासत जाट राजाओं का प्रमुख गढ़ है और यहाँ बना हुआ यह किला उनकी सुरक्षा और विजय का मुख्य कारण रहा है। कहा जाता है इस किले की दीवारें लोहे के समान मजबूत हैं इसी वजह से इसे लोहागढ़ कहा जाता है। भरतपुर जाने वाली सरकारी बसें भी लोहागढ़ आगार के नाम से ही चलती हैं। अनेकों आक्रमण सहने के बाद भी यह किला आज भी अपनी उचित अवस्था में खड़ा हुआ है। भरतपुर को राजस्थान का पूर्वी सिंह द्धार  या प्रवेश द्धार भी कहा जाता है। 

     भरतपुर की स्थापना रुस्तम जाट द्वारा की गई थी, सन 1733 में महाराजा सूरजमल ने इस पर अधिकार कर लिया और नगर के चारों ओर एक सुरक्षित चारदीवारी का निर्माण करवाया। इसलिए भरतपुर का मुख्य संस्थापक महाराजा सूरजमल को माना जाता है और लोहागढ़ दुर्ग का निर्माणकर्ता भी। चूँकि भरतपुर का अधिकांश क्षेत्र ब्रजभूमि के अंतर्गत शामिल है इसलिए ब्रज और उसके आसपास के क्षेत्र पर महाराज सूरजमल का राज होने कारण शत्रुओं ने कभी इसतरफ अपना रुख करना उचित नहीं समझा और जिन्होंने इस तरफ रुख किया वो कहीं और रुख करने लायक ही नहीं रहे इसलिए महाराजा सूरजमल को जाट जाति का प्लेटो या अफलातून भी कहा जाता है।

       भरतपुर का लोहागढ़ दुर्ग चारों ओर बनी खाई और मिटटी के परकोटे के कारण अभेद्द दुर्ग रहा है, ऐसे और भी दुर्ग भरतपुर राज्य के अंतर्गत अत्यंत स्थानों पर भी बनाये गए जिनमे डींग का किला भी प्रमुख है। भरतपुर में लोहागढ़ के अलावा एक प्रसिद्ध गंगा मंदिर भी है जो यहाँ का विशाल मंदिर है इसका निर्माण महाराजा बलवंत सिंह ने कराया था साथ ही यहाँ महाराजा बलवंत सिंह द्वारा बनवाई गई जामा मस्जिद भी देखने योग्य है। इतना ही नहीं गंगा मंदिर की तर्ज पर बना लक्ष्मण मंदिर भी भरतपुर को पर्यटन की दृष्टि से योग्य बनाता है।
पर्यटन के हिसाब से भरतपुर का नाम केवल भारतवर्ष में ही नहीं, बल्कि विश्व में भी बड़े गर्व से लिया जाता है क्योंकि यहाँ स्थित केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान भारत का सबसे बड़ा पक्षी अभयारण्य है। केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान 1956 में स्थापित हुआ था तथा 1981 में इसे राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया। यह अभयारण्य 29 वर्गकिमी में स्थित है जिसमें शीतकाल के दौरान मंगोलिया, चीन, यूरोप, रूस और अन्य देशों से अनेकों पक्षी आते हैं। इसकारण इसे यूनेस्को ने सन 1885 में विश्व धरोहर सूची में शामिल किया गया है।

      आज शनिवार का अवकाश था इसलिए मेरे साथ काम करने वाला मेरा मित्र शारुख अपनी बाइक लेकर मेरे घर आया और हम दोनों बाइक से भरतपुर की तरफ निकल गए। काफी दिन से हमारा प्लान था एक साथ कहीं बाहर जाने का, परन्तु हिसाब बन नहीं पाता था आज बन गया। हम सबसे पहले लोहागढ़ के दुर्ग पहुंचे और इसके मुख्य द्धार के सामने फोटो लेने के लिए जैसे ही कैमरा निकाला तुरंत धीमी धीमी बरसात शुरू हो गई। किले में सबसे पहले हम जवाहर बुर्ज पर गए जहाँ मुझे कैमरे से फोटो लेते देख यहाँ के एक कर्मचारी ने कहा यहाँ फोटो लेना वर्जित है हालाँकि मुझे थोड़ा बुरा लगा किन्तु अफ़सोस नहीं हुआ क्योंकि मेरे पास जो मोबाइल था वो भी तो कैमरे का ही काम करता है और मोबाइल से यहाँ फोटो लेना वर्जित नहीं है। अब तक मेरी समझ में यह नहीं आया कि इन पुरानी इमारतों को कैमरे से भला ऐसी क्या तकलीफ होती होगी जो मोबाइल से नहीं होती। 

     खैर, हम किले के अंदर बाइक से ही भ्रमण कर रहे थे। कुछदेर बाद हम संग्रहालय पहुंचे जिसके खुलने में अभी वक़्त था इसलिए हम आगे बढ़ गए और किशोरी महल पहुंचे। यह महल किले के बीचोंबीच एक ऊँचे स्थान पर है यहाँ महाराजा सूरजमल जी की घोड़े पर बैठी हुई एक आलीशान मूर्ति स्थापित है और इसके आसपास जाट साम्राज्य का गौरवशाली इतिहास पत्थरों के बोर्डों पर अंकित है। मूर्ति के पीछे ही किशोरीमहल स्थित है जहाँ कभी महाराजा रहते होंगे, फ़िलहाल इसके अंदर मरम्मत का कार्य चल रहा था इस वजह से अभी यह पर्यटकों के भ्रमण के लिए बंद था। हम किले के दुसरे दरवाजे पर पहुंचे यह लोहिया गेट के नाम से  जाना जाता है इसके पास ही किले वाले हनुमान जी का मंदिर भी स्थित है जो एक ऊँचे टीले पर स्थित है। 

      इसी गेट के सामने गंगा मंदिर दिखाई देता है। मैंने कुछ देर यहाँ आराम किया और शारुख भरतपुर की छोटी छोटी कचौड़ी खाने चला गया जो इसे सब्जी के साथ ना मिलकर कड़ी के साथ मिली जो उसके लिए एक नई और आश्चर्य वाली बात थी। अब मैं उसे कैसे समझाता कि यही तो राजस्थान का नाश्ता है जिसमे खुछ भी खाओ परन्तु मिलता कड़ी के साथ ही है। वैसे हमारे यहाँ कड़ी को बेशन भी कहा जाता है क्योंकि यह बेशन से ही बनी होती है। नाश्ता करके जब शारुख आ गया तो हम गंगा मंदिर गए, शारुख नहीं गया, मुझे लगा शायद कट्टर मुसलमान है परन्तु वास्तव में ऐसा नहीं था इसका एहसास मुझे तब हुआ जब हम गंगा मंदिर देखने के बाद प्रसिद्ध जामा मस्जिद देखने पहुंचे और शारुख इसके अंदर भी नहीं गया। 

     हालाँकि एक गैर सम्प्रदाय के धार्मिक स्थल में मुझे प्रवेश करने में थोड़ी हिचक सी महसूस हुई किन्तु शारुख ने मेरा हौंसला बढ़ाया और मैं मस्जिद में दाखिल हो सका और मस्जिद में अपने खुदा को प्रणाम कर इस मस्जिद की कुछ फोटो लेने के बाद मैं वापस बाहर आ गया। शारुख को ना किसी मंदिर में कोई दिलचस्पी थी नहीं मस्जिद में। उसे तो केवल सेल्फी पॉइंट्स ही पसंद थे फिर वो चाहे कहीं भी हो परन्तु धार्मिक स्थलों को उसने कभी भी सेल्फी पॉइंट नहीं समझा और उसकी यही बात मुझे बहुत पसंद आई। इसके बाद हम लक्ष्मण मंदिर भी पहुंचे परन्तु अधिकांश स्थानों की तरह यह भी हमें बंद मिला और जैसे ही हमने अपनी बाइक इस मंदिर के दरवाजे के सामने रोकी अचानक कुछ लोग हमारी तरफ झपटे। पहले तो मैं डर गया और सोचने लगा शायद यह इस मंदिर को दिखने वाले गाइड तो नहीं है परन्तु बाद में एहसास हुआ वो तो सीमेंट पत्थरों का काम करने वाले रोजमर्रा के मजदूर थे जो हमें ग्राहक समझ कर हमारे पास आये और काम मांगने लगे। 

    अब वक़्त हो चला था भरतपुर से बाहर निकलने का और फतेहपुर सीकरी की तरफ पलायन करने का। अटलबंद दरवाजे के कुछ फोटो लेने के बाद हम राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 11 पर थे। यह राजमार्ग आगरा से बीकानेर के लिए गया है जिसका मुख्य उपयोग मुग़ल काल में शहंशाह अकबर ने अधिकतर किया था। रास्ते में हमें एक स्थान पर सम्राट अकबर की एक मूर्ति भी शेरों के साथ देखने को मिली और यहाँ कुछ फोटो लेने के बाद हम फतेहपुर सीकरी के लिए रवाना हो गए।     

लोहागढ़ दुर्ग 

शारुख 

मैं और लोहागढ़ 

अष्टधातु दरवाजा 


जवाहर बुर्ज के लिए रास्ता 

जवाहर बुर्ज 

लोहागढ़ के महल 

Add caption

महाराजा सूरजमल की एक प्रतिमा उनके महल के साथ 

महाराजा सूरजमल 



महाराजा सूरजमल और मैं 

किशोरी महल और जाटों का इतिहास 

किशोरी महल 

किशोरी महल 



किशोरी महल 

किशोरी महल और शारुख 

लोहागढ़ की मजबूत दीवारें 

लोहागढ़ 

लोहिया गेट, भरतपुर 



भरतपुर की जामा मस्जिद  

गंगा मंदिर, भरतपुर 

गंगा मंदिर, भरतपुर 

गंगा मंदिर का इतिहास 

गंगा मंदिर 

अटलबंध दरवाजा, भरतपुर 

अटलबंध दरवाजा 



शारुख खान 





शारुख को सेल्फी की जगह मिल ही गई 


अगली यात्रा - फतेहपुर सीकरी 

Saturday, September 1, 2018

RANTHAMBHORE FORT


रणथंभौर किला 


पिछली यात्रा - शिवाड़ दुर्ग और बारहवाँ ज्योतिर्लिंग 

      शिवाड़ से लौटने के बाद मैं सवाई माधोपुर स्टेशन पहुंचा और यहाँ से बाहर निकलकर मैंने तलाश की  रणथम्भौर जाने वाले किसी साधन की। एक दुकान पर मैंने अपनी शेव बनवाई और उसी दुकानदार से रणथम्भौर जाने वाली बस के बारे में पूछा तो दुकानदार ने थोड़ा आगे की तरफ इशारा करते हुए कहा कि वो सामने जीपें खड़ी हैं वही रणथम्भौर जाती हैं। मैं इन जीपों तक पहुँचा तो जीप वाले ने कहा जैसे ही कुछ सवारियाँ और आजायेंगी तभी हम चल पड़ेंगे। जबतक मैं अपनी प्रिय कोल्ड्रिंक थम्सअप लेने गया तब तक काफी सवारियां जीप वाले के पास आ चुकी थी। मैंने अपना बैग पहले ही जीप की आगे वाली सीट पर रख दिया था इसलिए वहां कोई नहीं बैठा और हम रवाना हो गए ऐतिहासिक महादुर्ग रणथम्भौर की ओर। 

SHIWAR



शिवाड़ किला और घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग

       मानसून बीतता ही जा रहा था और इस वर्ष मेरी राजस्थान की यात्रा अभी भी अधूरी ही थी इसलिए पहले यात्रा के लिए उपयुक्त दिन निश्चित किया गया और फिर स्थान।  परन्तु इस बार मैं घर से ज्यादा दूर जाना नहीं चाहता था, बस यूँ समझ लीजिये मेरे पास समय का काफी अभाव था। यात्रा भी आवश्यक थी इसलिए इसबार रणथम्भौर जाने का प्लान बनाया मतलब सवाई माधोपुर की तरफ। यहाँ काफी ऐसी जगह थीं जो मेरे पर्यटन स्थलों की सैर की सूची में दर्ज थे। इसबार उनपर घूमने का समय आ चुका था इसलिए मैं रात को एक बजे घर से मथुरा स्टेशन के लिए निकल गया। बाइक को स्टैंड पर जमा कर मैं प्लेटफॉर्म पर पहुंचा। कुछ ही समय में निजामुद्दीन से तिरुवनंतपुरम जाने वाली एक एक्सप्रेस आ गई जिससे मैं सुबह पांच बजे सवाई माधोपुर पहुँच गया।

Sunday, July 30, 2017

BHANGARH




भानगढ़ - प्रसिद्ध हॉन्टेड पैलेस 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

     अजबगढ़ से निकलते ही शाम हो चली थी, घडी इसवक्त चार बजा रही थी और अभी भी हम भानगढ़ किले से काफी दूर थे।  सुना है इस किले में सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के पश्चात प्रवेश करना वर्जित है। अर्थात हमें यह किला दो घंटे के अंदर घूमकर वापस लौटना था। मैंने सोचा था कि भानगढ़ किला भी अजबगढ़ की तरह वीरान और डरावना सा प्रतीत होता होगा परन्तु जब यहाँ आकर देखा तो पता चला कि इस किले को देखने वाले हम ही अकेले नहीं थे, आज रविवार था और दूर दूर से लोग यहाँ इस किले को देखने आये हुए थे। किले तक पहुँचने वाले रास्ते पर इतना जाम था कि लग रहा था कि हम किसी किले की तरफ नहीं बल्कि किसी बिजी रास्ते पर हों।

AJABGARH FORT




अजबगढ़ की ओर 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

     नारायणी मंदिर से निकलते ही मौसम काफी सुहावना हो चला था। आसमान में बादलों की काली घटायें छाई हुईं थीं। बादल इसकदर पहाड़ों को थक लेते थे कि उन्हें देखने से ऐसा लगा रहा था जैसे हम अरावली की वादियों में नहीं बल्कि हिमालय की वादियों में आ गए हों। घुमावदार पहाड़ी रास्तों पर बाइक अपने पूरे वेग से दौड़ रही थी, यहाँ से आगे एक चौराहा मिला जहाँ से एक रास्ता भानगढ़ किले की तरफ जाता है और सामने की ओर सीधे अजबगढ़,  जो यहाँ से अभी आठ किमी दूर था। 

NARAYANI DHAM




नारायणी माता मंदिर - नारायणी धाम

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें
 
    टहला से अजबगढ़ जाते समय हम एक ऐसे स्थान पर आकर रुके जहाँ चारों और घने पीपल के वृक्ष थे, यह एक चौराहा था जहाँ से एक रास्ता नारायणी माता के मंदिर के लिए जाता है जो यहाँ से कुछ ही किमी दूर है। हमने सोचा जब ट्रिप पर निकले ही हैं तो क्यों ना माता के दर्शन कर लिए जाएँ और यही सोचकर हम नारायणी धाम की तरफ रवाना हो गए। यहाँ अधिकतर लोग लोकल राजस्थानी ही थे और इन लोगों में नारायणी माता की बड़ी मान्यता है। आज यहाँ मेला लगा हुआ था, काफी भीड़ भी थी और तरह तरह की दुकाने भी लगी हुईं थी।

TAHALA FORT



टहला किला का एक दृशय 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

     कुम्हेर का किला देखने के बाद हमने मोबाइल में आगे का रास्ता देखा, इस वक़्त हम भरतपुर से डीग स्टेट हाईवे पर खड़े थे, यहाँ से कुछ आगे एक रास्ता सिनसिनी, जनूथर होते हुए सीधे नगर को जाता है, जोकि शॉर्टकट है अन्यथा हाईवे द्वारा डीग होकर नगर जाना पड़ता, जो की लम्बा रास्ता है। हम सिनसिनी की तरफ रवाना हो लिए और जनूथर पहुंचे, जनूथर से नगर 22 किमी है। नगर पहुंचकर हम बस स्टैंड पर जाकर रुक गए। यहाँ हमने गर्मागरम जलेबा खाये।  

KUMHER FORT



कुबेर नगरी - कुम्हेर 


       अबकी बार मानसून इतनी जल्दी आ गया कि पता ही नहीं चला, पिछले मानसून में जब राजस्थान में बयाना और वैर की मानसून की यात्रा पर गया था, और उसके बाद मुंबई की यात्रा पर, ऐसा लगता है जैसे कल की ही बात हो। वक़्त का कुछ पता नहीं चलता, जब जिंदगी सुखमय हो तो जल्दी बीत जाता है और गर दिन दुखमय हों तो यही वक़्त कटे नहीं कटता है। खैर अब जो भी हो साल बीत चुका है और फिर मानसून आ गया है, और मानसून को देखकर मेरा मन राजस्थान जाने के लिए व्याकुल हो उठता है। इसलिए अबकी बार भानगढ़ किले की ओर अपना रुख है, उदय के साथ एक बार फिर बाइक यात्रा।

        आज रविवार था, मैं और उदय कंपनी से छुट्टी लेकर सुबह ही मथुरा से राजस्थान की तरफ निकल लिए और सौंख होते हुए सीधे राजस्थान में कुबेर नगरी कुम्हेर पहुंचे। यह मथुरा से 40 किमी दूर भरतपुर जिले में है। कहा जाता है कि यह नगरी देवताओं में धन के देवता कुबेर ने बसाई थी, वही कुबेर जो रावण के सौतेले भाई थे। यहाँ एक विशाल किला है जो नगर में घुसते ही दूर से दिखाई देता है। भानगढ़ की तरफ जाते हुए सबसे पहले हम इसी किले को देखने के लिए गए। किले के मुख्य रास्ते से न होकर हम इसके पीछे वाले रास्ते से किले तक पहुंचे जहाँ हमे एक जल महल भी देखने को मिला।

Wednesday, April 12, 2017

DWARIKA EXPRESS

द्धारिका यात्रा 

पहला पड़ाव - जयपुर 

     चार धामों में से एक और सप्तपुरियों में से भी एक भगवान श्री कृष्ण की पावन नगरी द्धारिका की यह मेरी पहली यात्रा थी जिसमे मेरे साथ मेरी माँ, मेरी छोटी बहिन निधि, मेरी बुआजी बीना और मेरे पड़ोस में रहने वाले भाईसाहब और उनकी फेमिली थी।  मैंने जयपुर - ओखा साप्ताहिक एक्सप्रेस में रिजर्वेशन करवाया था इसलिए हमें यह यात्रा जयपुर से शुरू करनी थी और उसके लिए जरूरी था जयपुर तक पहुँचना।

     हमारे पड़ोस में रहने वाले एक भाईसाहब अपनी जायलो से हमें मुड़ेसी रामपुर स्टेशन तक छोड़ गए यहाँ से हमें मथुरा - बयाना पैसेंजर मिली जिससे हम भरतपुर उतर गए। भरतपुर से जयपुर तक हमारा रिजर्वेशन मरुधर एक्सप्रेस में था जो आज 2 घंटे की देरी से चल रही थी ,चूँकि पिछली पोस्ट में भी मैंने बताया था कि भरतपुर एक साफ़ सुथरा और प्राकृतिक वातावरण से भरपूर स्टेशन है।  यहाँ का केवलादेव पक्षी विहार पर्यटन क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखता है जहाँ आपको दूर देशों के पक्षी भी विचरण करते हुए देखने को मिलते हैं,|इसी की एक झलक भरतपुर स्टेशन की दीवारों पर चित्रकारी के माध्यम से हमें देखने को मिलती है।

Sunday, March 26, 2017

JODHPUR


मेहरान गढ़ की ओर

 इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

       शाम को पांच बजे तक सिंधी कैंप बस स्टैंड आ गया यहाँ से गोपाल ने एक डीलक्स बस में मेरी टिकट ऑनलाइन करवा दी थी जिसके चलने का समय शाम सात बजे का था, काफी पैदल चलने की वजह से मैं काफी थक चुका था इसलिए बस में जाकर अपनी सीट देखी, यह स्लीपर कोच बस थी मेरी ऊपर वाली सीट थी उसी पर जाकर लेट गया। ट्रेन की अपेक्षा बस मे ऊपर वाली सीट मुझे ज्यादा पसंद है क्यूंकि बस की ऊपर वाली सीट में खिड़की होती है। 
         मैंने गोपाल को फोनकर बस के जोधपुर पहुंचने का टाइम पुछा उसने बताया रात को 2 बजे।  उसी हिसाब से अलार्म लगाकर मैं सो गया और फिर ऐसी नींद आयी की सीधे बाड़मेर से सत्तर किमी आगे डोरीमन्ना में जाकर खुली, जोधपुर और बाड़मेर कबके निकल चुके थे मैंने बस वाले से पुछा भाई हम कहाँ हैं मुझे तो जोधपुर उतरना था तुमने जगाया क्यों नहीं। वह मेरी तरफ ऐसा देख रहा था जैसे मैंने को महान काम कर दिया हो, उसने मुझसे कहा की आधा घंटा और सोते रहते तो पाकिस्तान पहुँच जाते। 

JAIPUR

आमेर किले की ओर 

     मुंबई से लौटे हुए अब काफी समय हो चुका था इसलिए अब मन नई यात्राओं की तैयारी कर रहा था बस जगह नहीं मिल रही थी, यूँ तो कुछ दिन बाद द्धारका यात्रा का प्लान तैयार था परन्तु उसमे अभी काफी समय था, मन बस अभी जाना चाहता था और ऐसी जगह जहाँ कुछ देखा न हो | काफी सोचने के बाद मुझे मेरे भाई गोपाल की याद आई जो इन दिनों जोधपुर में था, गर्मी के इस मौसम में रेगिस्तान की यात्रा ......... मजबूरी है।

शाम को घर जाकर जोधपुर हावड़ा एक्सप्रेस में रिजर्वेशन करवाया और यात्रा शुरू। शाम को मेवाड़ एक्सप्रेस पकड़कर भरतपुर पहुँच गया और ट्रैन का इंतज़ार करने लगा। 

Saturday, July 16, 2016

WAIR FORT


 DATE :- 16 JULY 2016

ऊषा मंदिर और वैर फोर्ट 

       यात्रा एक साल पुरानी है परन्तु पब्लिश होने में एक साल लग गई, इसका एक अहम् कारण था इस यात्रा के फोटोग्राफ का गुम हो जाना परन्तु भला हो फेसबुक वालों का जिन्होंने मूमेंट एप्प बनाया और उसी से मुझे मेरी एक साल पुरानी राजस्थान की मानसूनी यात्रा के फोटो प्राप्त हो सके। यह यात्रा मैंने अपनी बाइक से बरसात में अकेले ही की थी। मैं मथुरा से भरतपुर पहुंचा जहाँ पहली बार मैंने केवलादेव घाना पक्षी विहार देखा परन्तु केवल बाहर से ही क्योंकि इसबार मेरा लक्ष्य कुछ और ही था और मुझे हर हाल में अपनी मंजिल तक पहुंचना ही था, मेरे पास केवल आज का ही समय था शाम तक मुझे मथुरा वापस भी लौटना था।

Sunday, September 8, 2013

MUNABAO



बाड़मेर की तरफ़ 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

    आज मैंने पहली बार सूर्य नगरी में कदम रखा था। मैं जोधपुर स्टेशन पर आज पहली बार आया था, यहाँ अत्यधिक भीड़ थी। कारण था बाबा रामदेव का मेला, जो जोधपुर - जैसलमेर रेलमार्ग के रामदेवरा नामक स्टेशन के पास चल रहा था। मैंने इंटरनेट के जरिये यहाँ से जैसलमेर के लिए रिज़र्वेशन करवा लिया था किन्तु वेटिंग में, अब पता करना था कि टिकट कन्फर्म हुई या नहीं। मैंने पूछताछ केंद्र पर जाकर पुछा तो पता चला कि टिकिट रद्द हो गई थी, मेरा चार्ट में नाम नहीं था।

     मैं स्टेशन के बाहर आया और यहाँ के एक ढाबे पर खाना खाया। यहाँ मैंने देखा कि सड़क पर दोनों तरफ चारपाइयाँ ही चारपाइयाँ बिछी हुई हैं बाकायदा बिस्तर लगी हुई। किराया था एक रात का मात्र 40 रुपये। परन्तु इसबार मेरा सोने का कोई इरादा न था मुझे बाड़मेर पैसेंजर पकड़नी थी जो रात 11 बजे चलकर सुबह 5 बजे बाड़मेर पहुंचा देती है। इसप्रकार मैं बाड़मेर भी पहुँच जाऊँगा और रात भी कट जाएगी। मैंने ऐसा ही किया।

    बाड़मेर पैसेंजर से मैं सुबह पांच बजे ही बाड़मेर पहुँच गया, स्टेशन पर बने वेटिंग रूम में नित्यक्रिया से फुर्सत होकर बाहर गया और एक राजस्थानी बाबा की दुकान पर दस रुपये वाली बाड़मेरी चाय पीकर आया। सुबह साढ़े सात बजे मुनाबाब लिए यहाँ से पैसेंजर जाती है, मुनाबाब जाने के लिए ट्रेन  स्टेशन पर तैयार खड़ी थी, तभी मैंने देखा कि मुनाबाब की ओर जाने वाली दूसरी लाइन के सिग्नल हरे हो रहे हैं, मतलब पैसेंजर से पहले कोई और ट्रेन  मुनाबाब की और जाने वाली थी जिसका स्टॉप बाड़मेर स्टेशन पर नहीं था, और जब ट्रेन हमारे सामने से गुजरी तो पता चला कि यह थार एक्सप्रेस थी जो कि पाकिस्तान वाले यात्रियों को लेकर मुनाबाब जा रही है ।

   थार एक्सप्रेस जोधपुर के भगत की कोठी स्टेशन से चलकर भारत देश के आखिरी स्टेशन मुनाबाब तक जाती है और मुनाबाब पर पाकिस्तान की दूसरी थार एक्सप्रेस आती है जो भारतीय थार एक्सप्रेस के यात्रियों को कराची लेकर जाती है। यह ट्रेन पूरी तरह से कवर्ड रहती है ।

     मैं अपनी पैसेंजर ट्रेन से मुनाबाब तक घूम आया, यह भारत का आखिरी रेलवे स्टेशन है इसके बाद रेलवे लाइन एल ओ सी पार करके पाकिस्तान में चली जाती है जहाँ हम नहीं जा सकते थे। यहाँ न कोई शहर था न कोई गांव, सिर्फ था तो केवल रेगिस्तान और भारतीय फ़ौज़ की चौकियां, यहाँ से पाकिस्तान महज एक किलोमीटर दूर था। मैं मुनाबाब देखकर वापस बाड़मेर आ गया और वहां से फिर जोधपुर। जोधपुर से शाम को मेरा हावड़ा एक्सप्रेस में रिजर्वेशन था दुसरे दिन मैं आगरा पहुँच गया।

जोधपुर  स्टेशन 

JODHPUR RAILWAY STATION

BADMER RAILWAY STATION

BADMER RAILWAY STATION

BADMER

BADMER

BHACHBHAR RAILWAY STATION

RAMSAR RLY. STATION

GAGRIYA RAILWAY STATION

GAGRIYA RAILWAY STATION

BADMER

BADMER

BADMER

BADMER

BADMER TO MUNAWAO

BADMER

BADMER

LEELMA RAILWAY STATION

BADMER

BADMER


MUNABAO RAILWAY STATION IND.

MUNABAO RAILWAY TIME TABLE

MUNABAO

MUNABAO

MUNABAO

MUNABAO RAILWAY STATION

MUNABAO

MUNABAO RLY STATION PAK

MUNABAO

MUNABAO RAILWAY STATION PAKISTAN

JAISINDER RAILWAY STATION

गडरा गांव विभाजन से पहले हिंदुस्तान की जमीन पर था, पर आज यह गांव पाकिस्तान में है और इस गांव का रेलवे स्टेशन आज भी भारत में ही है, रास्ता तो खो गया पर स्टेशन आज भी मौजूद है । और यही वो रेलवे स्टेशन जहाँ दुश्मनों ने रेलवे कर्मचारियों को मौत के  कर इस स्टेशन को आग लगा दी थी ।   

एक राजस्थानी महिला 

राजस्थान 

मुनाबाव - बाड़मेर पैसेंजर 

बाड़मेर  स्टेशन